Posted by: Bagewafa | જૂન 18, 2007

फरियाद नहीं._मोहंदअली’वफा’

फरियाद नहीं._मोहंदअली’वफा’


कोइ शिकवह कोइ तनकीदो फरियाद नहीं.
कोइ भी झुलम अब तो तेरा कूछ याद नहीं.

सो गये हम तो बिसाते गुल समझ कर ही उसे
खारका था वो बिछौना …गर .. एतेमाद नहीं .

ये तगाफुलका अजीबो गरीबहै अंदाझ यहां
दूरसे हसते रहे बस कोइ एहसास नहीं.

बखश दी हमने यहां अपनाईयत हर जर्रेको
कौन बना सांप कभी आसतीं का याद नहीं.

दिल हमारे की जमीं दस्ते गुलके ही रही
लाख गरदिश में रहा ये दौर बरबाद नहीं.

में’वफा’ किस किस गली से ना चलुं तुही बता
काफले लूंटे नहीं तो फिर अजूबात नही
.

Advertisements

Responses

  1. Pyar karne wale preshan hojate he
    shadi karne wale sharabi hojate he
    divorce dene wale devdas ho jate he
    dosti karne wale dil wale hojate he

    Tu Chandramukhi
    me surajmukhi
    tu mujse dukhi
    me tujse dukhi
    chal chhatse chhalang laga de
    phir tubhi sukhi
    me bhi sukhi


શ્રેણીઓ